Acudetox India Network

ABOUT ACUDETOX INDIA 

In the present day society,  adolescents ,youth,women and girls find it hard to talk about help, issues related to NCDs ,addiction, trauma, domestic violence, mental health etc. We believe that talking about feelings, trauma asking for help is still a taboo and highly stigmatized and further biggest barrier in effective service delivery at grass root level.

The idea of forming Nada Acudetox India Network was mooted by Nada India to achieve the objectives of promoting barrier free health delivery services among marginalized. Nada India encourages Community Wellness for Behavioural Health including Addictions, Mental Health, and Disaster & Emotional Trauma.

Dr. Michael O’ Smith, psychiatrist and acupuncturist said “NADA Acupuncture teaches us to relax from the inside out.” This increased sense of calm and the quieting of symptoms that occurs as a result of the acupuncture treatment stimulates one’ own “Qi”( one’s inner energy) and brings us back into a more balanced state and chance to communicate. As we become calmer inside, we become much more aware of over selves and others. 




From this quieter, inner place we can then make more careful choices in our reactions to life situations.” 

Read more about AcuDetox.

You can also read about NADA helpful resources here.

.

Ear Acupressure for stress relief

    

A 15 year old girl from Bapu Sambhu camp, Delhi sharing her experience with one of the peer educators. I have used beads 10-12 times and every time I feel as my tension in my mind is reduced, mind becomes light and calm. I feel that all my work will be completed. No tension whenever I use beads. It becomes easy to study and remember chapters. All my work becomes easy and mind remains cool. I even take interest in my household chores and perform better and with ease. It helps me to sleep better. No tension and worries about the future, that what will happen to me in future. Absolutely, no tension! read more

“We’re talking about the body wanting to heal itself.

This comes from life, so you are choosing your own healing.

Nature wants us to get it right.” – Michael Smith, NADA Founder

How to Ear Massage

There is no wrong way to do it. Massage the upper ear with your finger and thumb – how long is up to you.

“‘How do you put on beads?’

What do you mean? I just put them on. And when I’m feeling frustrated, I put on another.” -Sheila Murphy

How to Apply Beads & Seeds

Again, there is no wrong way to do it. Ear Acupressure is less about the points themselves and more about giving yourself intentional time to heal. Stress less about where to put the beads and focus more on taking calming breaths and setting healing intentions.

What You Need


Be creative with what you have that is bigger than a poppy seed but smaller than a peppercorn. You can use any small round object such as a mustard seed and some tape (Band-Aid, medical tape, or other household tape available).

How to Apply Beads & Seeds


The general area to aim for: Shen men + Reverse Shen Men with a photo pointing to the top of the ear.

How to Apply Beads & Seeds

Trust your intuition. After the beads/seeds are in place you may gently press on them or let them be. They can stay on for one to two weeks, or you can remove them if they are uncomfortable.

For more details and how to get beads please call: 9810594544 [email protected] 

ABOUT Nada Acudetox Training


Are you looking for NADA Acupuncture Detoxification Specialist (Acudetox Specialist ) in India or next ADS training or hoping to add NADA protocol into your existing prevention, wellness ,addiction treatment or rehabilitation facility or behavioral health program? Indian Association of Acupuncture Detoxification Specialists is committed to ensure that the training and certification of Acupuncture Detoxification Specialists meet clinical and ethical standards.


Criteria for Acudetox Training in India (as per Indian Association of Acupuncture Detoxification Specialist )

The NADA protocol is an adjunctive formula tool that can be incorporated into any treatment modality for substance misuse, stress reduction , wellness ,trauma and associated issues. It is designed for those who are already working in the stress reduction service, addictions treatment services, trauma center or who want to add to their knowledge and provide other treatment options for their clients. This course is a blended learning experience – theory, practical, group work, ongoing assessment, individual examinations, continuing clinical and professional development and sustained membership. If you are a candidate working with clients who have, trauma, stress and substance misuse issues and you work within a supervised treatment setting then you may be eligible to do the NADA India training (IAADS approved). For example, we have trained candidates with a variety of roles within the De-addiction centers ,Prison Service, Mental Health Trusts, Probation Service, Community Drug and Alcohol Teams. These range from outreach workers, needle exchange workers, nurse specialists, doctors, prison officers, probation officers, physiotherapist etc.


Obtaining a Training Completion Certificate

Every trainee must complete the combined didactic and clinical experience provided and/or overseen by a Nada Trainer. In addition, he or she will demonstrate to the satisfaction of that Nada Trainer a mastery of the basic competencies. Upon successful completion of all requirements (hours and competencies) and an application process, the ADS will receive a Certificate of Training as an Acupuncture Detoxification Specialist/Associate/Assistant Occasionally applicants are not able to demonstrate the required competencies even upon completion of the required hours of training. Such applicants will not be eligible to receive a certificate until they do so. Individuals may work with a Registered Trainer/supervisor to identify deficits and, in partnership, create a plan that will allow the individuals to achieve appropriate mastery of the materials and techniques.


PLEASE NOTE:

The Training Completion Certificate indicates successful completion of NADA acudetox training and demonstration of entry-level skills. NADA does not provide initial or ongoing certification of ADSes /licence to practice. 

ADSes are encouraged to maintain competencies and continue to expand their knowledge by pursing continuing education, attending the NADA annual conferences and maintaining active annual membership in the organization. ADSes each sign an Ethics Pledge verifying the understanding of and agreeing to abide by rules regarding limited scope of practice as appropriate, confidentiality, client rapport and respectful treatment, financial interest, and sharing experiences with the NADA community.

NADA asks that each trainee complete a membership application at the onset of training. This membership, good for one year, entitles trainees to all the benefits of membership including the newsletter. Upon successfully completing training requirements and demonstrating mastery, the Registered Trainer will submit the trainee’s completed application for the Certificate of Training as an Acupuncture Detoxification Specialist/Associate/Assistant to the Nada India office, signed by the Registered Trainer, along with the trainee’s signed ethics pledge.

Read more about ear acupuncture and addiction treatment in India.

Read the article_on_acupuncture_and_treatment_readiness.

Click here to participate in acudetox training or read more about Acudetox India here.

Disclaimer:This course/workshops as of now do not provide any degree or diploma, these  provides additional knowledge to your existing clinical expertise. Your practicing of Acupuncture/Ear Acupuncture  will solely depend upon the law of land and your respective professional bodies. This course is meant for the doctors, acupuncturist and others as mentioned above to sharpen their clinical skills and knowledge through Continuing Education programs. 


SOME PERSPECTIVES ABOUT EAR ACUPUNCTURE

Click here to read about Nada Ear Acupunture.


THE HISTORY OF ACUDETOX INDIA

Nada India promotes two basic approaches one is the use of ear acupuncture at all stages of addiction treatment & rehabilitation and peer based interventions. NADA protocol was developed and spearheaded as a worldwide movement by Dr. Michael O. Smith Psychiatrist and Acupuncturist from New York the Founder of National Acupuncture Detoxification Association.


MEMBERSHIP DETAILS

IAADS is solely funded by its membership dues. Help support the important work of this association and become a member! By becoming a member you will receive:

  • News updates from IAADS bi-monthly newsletter (Updates by email of current events and news ) exclusively devoted to recovery and healing from addictions, trauma, and other behavioral health issues and world wide NADA movement.
  • Discounts on the annual workshop/ conference.
  • Listing on acudetoxservice.blogspot.com of all registered ADS that provide Acupuncture Detoxification Specialist services.
  • Support in starting a new program, advice on how to help maintain a program, and assistance in contacting other NADA professionals who can provide invaluable consultation and guidance worldwide.
Membership:
  • Member for NADA ,ADS ( One years) Rs.300/-
  • Member for NADA ,ADS (Three years) Rs.500/-
  • Life member for NADA ,ADS (one time) Rs.5000/-
  • Associate member /volunteer (Any one who supports the cause) Rs.100/- per annum
Contact for details: E-mail- [email protected], Mob- 9810504544 and send the filled form at following address:
Dr.Ajay Vats Chairperson, IAADS & Training In-charge Contact No. 9810594544
Indian Association of Acupuncture Detoxification Specialists 1073/A-2,C-2 Sondhi Building Ward One Mehrauli New Delhi 110030 India 

You can click here to participate in Acudetox Training Process. Please send an email request at [email protected] along with filled form.


OBJECTIVES OF ACUDETOX INDIA

Indian Association of Acupuncture Detoxification Specialists (IAADS) was registered as a trust on 11/01/2011 in New Delhi with a focus on development of quality services available by NADA, (Acupuncture Detoxification Specialists ADS ) in India by:

  • Promoting and advocating the understanding of the problems and issues faced by health professionals, Counselors, peer counselors who acquired training as Acupuncture Detoxification Specialist (ADS) as per the NADA protocol.
  • Advancing education and research in the field of Holistic health, Ear acupuncture (NADA protocol) and addiction treatment, rehabilitation.
  • Promote and advocate the professional needs of Acupuncture Detoxification Specialists (Like addiction counselor, peer counselor ,social workers and correction officers , physician and mental health professionals etc.) trained and certified as per the norms set by National Acupuncture Detoxification Association ( NADA) especially those working in the Government ,peer led rehabilitation centers, private and other non-governmental organizations.
  • The Trust will undertake initiatives in the areas of ethics, regulatory system, govt. policy vis a vis ADS, accreditation of CME programs, treatment guidelines & data bank related to ADS and their training. To maintain a register of ADS trained and certified as per NADA norms and guidelines.

Read more about the Nada newsletter here.

EAR ACUPUNCTURE PROTOCOL MEETS GLOBAL NEEDS

Developed in the 1970s at Lincoln Hospital (Bronx, NY), the National Acupuncture Detoxification Association (NADA) protocol was originally used as a supportive component in drug and alcohol treatment settings. The 3-5 point ear acupuncture formula controlled withdrawal symptoms and helped patients become more clear-headed and comfortable. Nearly 1,000 licensed drug treatment programs use acupuncture in the U.S. according to federal N-SSATS statistics.


The 21st century has brought a remarkable expansion in the use of the NADA protocol. It is used in 130 prisons in England. Correction officers provide all the treatments under a 5 year training contract by Smart-UK. The jail program was expanded because of an 80% reduction in violent incidents. Post-trauma treatments have been given to community members after 9/11 and Katrina. Treatments for firemen have been permanently institutionalized in both cities. Ear acupuncture for stress has been used by thousands of para military ( Border Security Force) personnel in India through NADA-India.

NADA acupuncture has changed the face of psychiatric hospital care in Northern Europe. 3,000 nurses have been trained in 100 different government facilities. Refugee services in war-torn areas have been particularly impressive. The DARE program in Thailand has provided ear acupuncture for many years with a dozen different Burmese tribes in border camps. NADA was introduced during a 2 week training sponsored by Real Medicine Foundation in refugee camps in East Africa in May 2008. By the end of the year, 18,000 treatments were provided by the refugee trainees. Support was provided for survivors of a violent land dispute.

NADA members have used magnetic beads to treat children with ADHD and autism-spectrum disorders, and violence-prone adolescents. The beads are placed on the back of the ear opposite the shen men point. Bead remains in place with and adhesive 1-2 weeks at a time. Many instance of prolonged improvement have occurred, but this technique is only in an early stage of evaluation.

NADA acupuncture is used on a public health model. Treatments are commonly given in large groups on a frequent basis. Patients sit quietly for 45 minutes in a collective experience. Many jurisdictions have laws that allow a wide range of clinical personnel to be trained to use the NADA protocol in state approved facilities under general supervision of a fully licensed acupuncturist or physician. States that do not have this provision, such as Florida and California, have few NADA programs in comparison with states like Virginia and New York which do have this arrangement.

NADA uses 3-5 ear acupuncture points: sympathetic, shen men, lung, liver and kidney. In many settings only the first 3 points listed above are used. Results seem to be similar with 3 points, and there is less expense in Third World settings. NADA training also involves sterile precautions and social integration with other services. Apprenticeship training is always necessary because the clients are often troubled and distracted. NADA is a non-verbal approach. There are no diagnostic procedures. The ear points provide a balancing effect: some fall asleep; some feel relief of depression; some seem to be meditating. These balancing effects continue from one to several days even though the patient may be exposed to contrasting emergencies during that time. It is a coping and preventive effect. As an added note, Lincoln used electro acupuncture extensively in the 70s. Symptom relief lasted 6-8 hours. Our patients always preferred the prolonged preventive effects of manual acupuncture.

NADA acupuncture adds a valuable component to the behavioral health fields. Its worldwide validation strengthens the entire acupuncture profession. Click here to take the pledge.

Late Dr. Michael O. Smith, Founder NADA.

UPDATES

  • GOOD HEALTH AS NATIONAL PRIORITY
Nada Young India Network believes in “Good Health as National Priority '' to create a healthy and safe space for all fellow Indians and individuals around the globe. The theme echoes the concerns in the beating hearts of youth to be the change-makers and create smoke and drug-abuse-free India. Good Health as a National priority shares a concern for the well-being of the young and hence stands to support and build Tobacco Free India
#YOUTH4TOBACCOFREEINDIA ADD YOUR PHOTO and GET INVOLVED: SUPPORT COTPA AMENDMENT 2020 CAMPAIGN
    GOOD HEALTH AS NATIONAL PRIORITY Nada Young India Network believes in “Good Health as National Priority '' to create a healthy and safe space for all fellow Indians and individuals around the globe. The theme echoes the concerns in the beating hearts of youth to be the change-makers and create smoke and drug-abuse-free India. Good Health as a National priority shares a concern for the well-being of the young and hence stands to support and build Tobacco Free India #YOUTH4TOBACCOFREEINDIA ADD YOUR PHOTO and GET INVOLVED: SUPPORT COTPA AMENDMENT 2020 CAMPAIGN
    x
    GOOD HEALTH AS NATIONAL PRIORITY
Nada Young India Network believes in “Good Health as National Priority '' to create a healthy and safe space for all fellow Indians and individuals around the globe. The theme echoes the concerns in the beating hearts of youth to be the change-makers and create smoke and drug-abuse-free India. Good Health as a National priority shares a concern for the well-being of the young and hence stands to support and build Tobacco Free India
#YOUTH4TOBACCOFREEINDIA ADD YOUR PHOTO and GET INVOLVED: SUPPORT COTPA AMENDMENT 2020 CAMPAIGN
    GOOD HEALTH AS NATIONAL PRIORITY Nada Young India Network believes in “Good Health as National Priority '' to create a healthy and safe space for all fellow Indians and individuals around the globe. The theme echoes the concerns in the beating hearts of youth to be the change-makers and create smoke and drug-abuse-free India. Good Health as a National priority shares a concern for the well-being of the young and hence stands to support and build Tobacco Free India #YOUTH4TOBACCOFREEINDIA ADD YOUR PHOTO and GET INVOLVED: SUPPORT COTPA AMENDMENT 2020 CAMPAIGN
  • तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स: युवा जीवन सक्छम भी होगा और सशक्त भी |
...प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई 

" तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" 

किसी भी देश की प्रगति मे उस देश के युवाओ का एक अमूल्य योगदान होता है| निश्चित ही युवा आबादी ही देश की असली संपदा है जिसके चलते कोइ भी राष्ट्र ना केवल प्रगति करता है बल्कि उस देश का भविष्य भी मजबूत बना रहता है| जब् युवा सक्छम होता है तो देश भी अपने आप सशक्त होने लगता है| लेकिन वास्तविकता का दूसरा कडवा सच ये भी है कि युवा बहुत आसानी से व्यसनो के जन्जाल मे फ़स् भी जाया करते है| युवा अवस्था मे जीवन मे बहुत तेजी से परिवर्तन आते है| | तेजी से बदलती उम्र ,बदलता सामाजिक परिवेश, नये नये फ़ैशन् और इस दौर मे तो एक और नया आयाम जिसे हम सोशल मीडीया कहते है और उसके विभिन्न प्रारूप जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प आदि समेत अनेक डिजिटल संपर्क के बहुत सारे प्रयोजन भी जीवन से जुड गये है| इन सबके चलते युवा मानसिक अवसाद समेत तरह तरह के समाजिक तनावों से भी बहुत रुबरू हो रहा है| इस उम्र में बुद्धि सही या गलत का अंतर भी नहीं कर पाती है| जिसके परिणामस्वरूप युवा पीढ़ी जल्दी ही नशे के तमाम विकल्प जैसे कि शराब् हो या तंबाकु उत्पाद या फ़िर् कोइ ड्रग्स आदि के साथ जीवन जीने लगती है| 

सच है ये समस्या है परन्तु यदि युवा जीवन मे सही मार्गदर्शन मिलना शुरु हो जाये और किशोर अवस्था से युवा होने के बीच युवा जीवन को उनके कैरियर के प्रति सचेत किया जाये और कैसे सही कैरियर बनाया जाता है| ये मार्गदर्शन मिलने लगे तो निश्चित ही एक बड़ा परिवर्तन देखा जा सकता है| भारत में खासकर तम्बाकू उत्पाद बड़ी ही आसानी से किसी को भी उपलब्ध हो जाते है| तमाम क़ानूनी प्रावधान होने के बावजूद भी अक्सर इन कानूनों की धज्जियाँ उड़ते हुए हम रोज अपने जीवन में देखते है| 





तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले उम्र देखे बिना किसी को भी आसानी से ये नुकसानदेह उत्पाद बेच देते है| यहाँ तक कि टीवी या अन्य प्रचार के माध्यम से सरोगेट प्रचार भी भरपूर बड़े बड़े फ़िल्मी सितारे करते पाए जाते है| जिनका अत्यंत प्रतिकूल प्रभाव हम देखते है| आजकल तमाम फिल्मों /सीरियल / औ टी टी प्लेटफार्म पर धूम्रपान का चलन ना केवल आम हो गया है बल्कि उसको बड़े शाही अंदाज में ऐसे प्रस्तुत भी किया जाता है जैसे कि धूम्रपान करते ही आम आदमी कोई महामानव जैसा बन जाता है| ये सब देख कर युवा मन इसके आकर्षण का शिकार हो रहे हैं| भारत में लगभग २६८ मिलियन लोग तम्बाकू का उपभोग करते है जोकि विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है जहाँ की इतनी बड़ी आबादी इसका शिकार है| जिसके फलस्वरूप एक आंकलन के मुताविक भारत में हर वर्ष १३ लाख से ज्यादा लोग सिर्फ तम्बाकू उत्पाद के चलते अपने जीवन को पूरा नहीं जी पाते है|

ये मुद्दा बहुत संवेदनशील है| देश में हज़ारो - लाखों की संख्या में युवा ये खुद अपने परिवार में इस दंश को झेल चुके है या महसूस करते है| अनेक युवा जो इस मुहीम से जुड़े है उनमे से एक प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" 

ऐसा नहीं कि सरकार कोई कदम नहीं ले रही है| सरकारें अपने पूरे प्रयास तो कर रही है लेकिन वो अभी भी उस स्तर पर नहीं आये जोकि युवाओं को तम्बाकू उत्पाद के प्रयोग से बचा सकें| जिसमे सबसे अहम् रोल ना केवल इनकी आसान उपलब्धता का है बल्कि इनके ऊपर काम टैक्स होना भी है| विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी बड़े संस्थाएं भी तम्बाकू उत्पादों पर ७५% तक टैक्स बढ़ाने के लिए लगातार प्रेरित कर रही है| ताकि तम्बाकू उत्पादों को विशेषकर युवाओं से दूर करने में कुछ महत्वपूर्ण पहल की जा सके| 




भारत में भी नाडा इंडिया फाउंडेशन जैसी अनेक सामाजिक संस्थाएं इस दिशा में लोगों को, संगठनों को, सरकार को इस विषय में लगातार जागरूक करने का काम कर रही है| विगत कुछ समय पूर्व पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु जैसे अनेक राज्यों में रहने वाले 500 से ज्यादा युवाओं ने स्वयं पहल करते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी, वित्त मंत्री जी और स्वास्थ्य मंत्री जी को तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने हेतु अपना विनती लिख कर अनुरोध किया है| बेशक एक छोटी पहल है लेकिन निश्चित ही एक प्रभावी और दूसरों को प्रेरणा देने वाली पहल भी है| 

युवाओं को हमको तम्बाकू का नहीं बल्कि उन तमाम अवसरों का दोस्त बनाना है| जो उनके जीवन की तरक़्क़ी का कारक बने| अक्सर देखा जाता है कि अवसर तो अनेक है परन्तु उन तक पहुंचना समस्या के तौर पर देखा जाता है| आज जब समूचा विश्व कोरोना के दंश को झेल रहा है| बेरोजगारी की समस्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है| ऐसे में युवाओं को सम्बल देने की जरुरत है| उनको सही माध्यम और सही लोगों के साथ तालमेल करवाने की जरुरत है ऐसे में स्वरोजगार हो या स्टार्ट अप ये सब युवाओं को ना केवल आकर्षित करते है बल्कि उनको अपने लक्ष्य निर्धारण में भी मदद करते है| युवा पीढ़ी बहुत नाजुक अवस्था है जिसमे बहुत सारे द्वन्द एक साथ चलते है| जिसके चलते ही युवा नशे का शिकार हो जाता है| उसको लगता है कि ये नशा उसकी समस्या को कम करता है लेकिन कब वो लत का शिकार हो जाता है उसको इसकी कोई खबर नहीं होती| जिसके चलते ना केवल व्यक्ति स्वयं को बर्बाद करता है बल्कि परिवार भी बिगड़ते हुए अक्सर देखे जाते है| 



आज जबकि भारत भी कोरोना जैसी अति भयंकर बीमारी का सामना व्यापक रूप से झेल रहा है| ऐसे में तम्बाकू का सेवन कोरोना के प्रकोप को बढ़ाने में संजीवनी का काम करता है| इसलिए आज देश के युवाओं को समझदारी का प्रयोग करते हुए एक जिम्मेदार नागरिक बनना होगा| युवा इसलिए क्यूंकि युवाओं के कन्धों पर देश का भार और प्रभार दोनों हो| जिस हेतु मजबूत और सशक्त युवा देश की सबसे बड़ी जरुरत है| अगर युवा स्वाबलंबी होगा तो निश्चित ही सक्छम भी होगा और सशक्त भी| ऐसे में आज विश्व युवा दिवस के पुण्य अवसर पर ये प्रतिज्ञा हर युवा को लेनी चाहिए कई वो देश के लिए शक्ति बनेगा नाकि बीमारी से ग्रसित भार| और सरकार को भी अपने प्रयासों को खासकर तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढाकर एक दूरगामी पहल भी करनी चाहिए| आखिर ये सवाल देश के युवा जीवन को सशक्त बनाने का है
    तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स: युवा जीवन सक्छम भी होगा और सशक्त भी | ...प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" किसी भी देश की प्रगति मे उस देश के युवाओ का एक अमूल्य योगदान होता है| निश्चित ही युवा आबादी ही देश की असली संपदा है जिसके चलते कोइ भी राष्ट्र ना केवल प्रगति करता है बल्कि उस देश का भविष्य भी मजबूत बना रहता है| जब् युवा सक्छम होता है तो देश भी अपने आप सशक्त होने लगता है| लेकिन वास्तविकता का दूसरा कडवा सच ये भी है कि युवा बहुत आसानी से व्यसनो के जन्जाल मे फ़स् भी जाया करते है| युवा अवस्था मे जीवन मे बहुत तेजी से परिवर्तन आते है| | तेजी से बदलती उम्र ,बदलता सामाजिक परिवेश, नये नये फ़ैशन् और इस दौर मे तो एक और नया आयाम जिसे हम सोशल मीडीया कहते है और उसके विभिन्न प्रारूप जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प आदि समेत अनेक डिजिटल संपर्क के बहुत सारे प्रयोजन भी जीवन से जुड गये है| इन सबके चलते युवा मानसिक अवसाद समेत तरह तरह के समाजिक तनावों से भी बहुत रुबरू हो रहा है| इस उम्र में बुद्धि सही या गलत का अंतर भी नहीं कर पाती है| जिसके परिणामस्वरूप युवा पीढ़ी जल्दी ही नशे के तमाम विकल्प जैसे कि शराब् हो या तंबाकु उत्पाद या फ़िर् कोइ ड्रग्स आदि के साथ जीवन जीने लगती है| सच है ये समस्या है परन्तु यदि युवा जीवन मे सही मार्गदर्शन मिलना शुरु हो जाये और किशोर अवस्था से युवा होने के बीच युवा जीवन को उनके कैरियर के प्रति सचेत किया जाये और कैसे सही कैरियर बनाया जाता है| ये मार्गदर्शन मिलने लगे तो निश्चित ही एक बड़ा परिवर्तन देखा जा सकता है| भारत में खासकर तम्बाकू उत्पाद बड़ी ही आसानी से किसी को भी उपलब्ध हो जाते है| तमाम क़ानूनी प्रावधान होने के बावजूद भी अक्सर इन कानूनों की धज्जियाँ उड़ते हुए हम रोज अपने जीवन में देखते है| तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले उम्र देखे बिना किसी को भी आसानी से ये नुकसानदेह उत्पाद बेच देते है| यहाँ तक कि टीवी या अन्य प्रचार के माध्यम से सरोगेट प्रचार भी भरपूर बड़े बड़े फ़िल्मी सितारे करते पाए जाते है| जिनका अत्यंत प्रतिकूल प्रभाव हम देखते है| आजकल तमाम फिल्मों /सीरियल / औ टी टी प्लेटफार्म पर धूम्रपान का चलन ना केवल आम हो गया है बल्कि उसको बड़े शाही अंदाज में ऐसे प्रस्तुत भी किया जाता है जैसे कि धूम्रपान करते ही आम आदमी कोई महामानव जैसा बन जाता है| ये सब देख कर युवा मन इसके आकर्षण का शिकार हो रहे हैं| भारत में लगभग २६८ मिलियन लोग तम्बाकू का उपभोग करते है जोकि विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है जहाँ की इतनी बड़ी आबादी इसका शिकार है| जिसके फलस्वरूप एक आंकलन के मुताविक भारत में हर वर्ष १३ लाख से ज्यादा लोग सिर्फ तम्बाकू उत्पाद के चलते अपने जीवन को पूरा नहीं जी पाते है| ये मुद्दा बहुत संवेदनशील है| देश में हज़ारो - लाखों की संख्या में युवा ये खुद अपने परिवार में इस दंश को झेल चुके है या महसूस करते है| अनेक युवा जो इस मुहीम से जुड़े है उनमे से एक प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" ऐसा नहीं कि सरकार कोई कदम नहीं ले रही है| सरकारें अपने पूरे प्रयास तो कर रही है लेकिन वो अभी भी उस स्तर पर नहीं आये जोकि युवाओं को तम्बाकू उत्पाद के प्रयोग से बचा सकें| जिसमे सबसे अहम् रोल ना केवल इनकी आसान उपलब्धता का है बल्कि इनके ऊपर काम टैक्स होना भी है| विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी बड़े संस्थाएं भी तम्बाकू उत्पादों पर ७५% तक टैक्स बढ़ाने के लिए लगातार प्रेरित कर रही है| ताकि तम्बाकू उत्पादों को विशेषकर युवाओं से दूर करने में कुछ महत्वपूर्ण पहल की जा सके| भारत में भी नाडा इंडिया फाउंडेशन जैसी अनेक सामाजिक संस्थाएं इस दिशा में लोगों को, संगठनों को, सरकार को इस विषय में लगातार जागरूक करने का काम कर रही है| विगत कुछ समय पूर्व पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु जैसे अनेक राज्यों में रहने वाले 500 से ज्यादा युवाओं ने स्वयं पहल करते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी, वित्त मंत्री जी और स्वास्थ्य मंत्री जी को तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने हेतु अपना विनती लिख कर अनुरोध किया है| बेशक एक छोटी पहल है लेकिन निश्चित ही एक प्रभावी और दूसरों को प्रेरणा देने वाली पहल भी है| युवाओं को हमको तम्बाकू का नहीं बल्कि उन तमाम अवसरों का दोस्त बनाना है| जो उनके जीवन की तरक़्क़ी का कारक बने| अक्सर देखा जाता है कि अवसर तो अनेक है परन्तु उन तक पहुंचना समस्या के तौर पर देखा जाता है| आज जब समूचा विश्व कोरोना के दंश को झेल रहा है| बेरोजगारी की समस्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है| ऐसे में युवाओं को सम्बल देने की जरुरत है| उनको सही माध्यम और सही लोगों के साथ तालमेल करवाने की जरुरत है ऐसे में स्वरोजगार हो या स्टार्ट अप ये सब युवाओं को ना केवल आकर्षित करते है बल्कि उनको अपने लक्ष्य निर्धारण में भी मदद करते है| युवा पीढ़ी बहुत नाजुक अवस्था है जिसमे बहुत सारे द्वन्द एक साथ चलते है| जिसके चलते ही युवा नशे का शिकार हो जाता है| उसको लगता है कि ये नशा उसकी समस्या को कम करता है लेकिन कब वो लत का शिकार हो जाता है उसको इसकी कोई खबर नहीं होती| जिसके चलते ना केवल व्यक्ति स्वयं को बर्बाद करता है बल्कि परिवार भी बिगड़ते हुए अक्सर देखे जाते है| आज जबकि भारत भी कोरोना जैसी अति भयंकर बीमारी का सामना व्यापक रूप से झेल रहा है| ऐसे में तम्बाकू का सेवन कोरोना के प्रकोप को बढ़ाने में संजीवनी का काम करता है| इसलिए आज देश के युवाओं को समझदारी का प्रयोग करते हुए एक जिम्मेदार नागरिक बनना होगा| युवा इसलिए क्यूंकि युवाओं के कन्धों पर देश का भार और प्रभार दोनों हो| जिस हेतु मजबूत और सशक्त युवा देश की सबसे बड़ी जरुरत है| अगर युवा स्वाबलंबी होगा तो निश्चित ही सक्छम भी होगा और सशक्त भी| ऐसे में आज विश्व युवा दिवस के पुण्य अवसर पर ये प्रतिज्ञा हर युवा को लेनी चाहिए कई वो देश के लिए शक्ति बनेगा नाकि बीमारी से ग्रसित भार| और सरकार को भी अपने प्रयासों को खासकर तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढाकर एक दूरगामी पहल भी करनी चाहिए| आखिर ये सवाल देश के युवा जीवन को सशक्त बनाने का है
    x
    तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स: युवा जीवन सक्छम भी होगा और सशक्त भी |
...प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई 

" तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" 

किसी भी देश की प्रगति मे उस देश के युवाओ का एक अमूल्य योगदान होता है| निश्चित ही युवा आबादी ही देश की असली संपदा है जिसके चलते कोइ भी राष्ट्र ना केवल प्रगति करता है बल्कि उस देश का भविष्य भी मजबूत बना रहता है| जब् युवा सक्छम होता है तो देश भी अपने आप सशक्त होने लगता है| लेकिन वास्तविकता का दूसरा कडवा सच ये भी है कि युवा बहुत आसानी से व्यसनो के जन्जाल मे फ़स् भी जाया करते है| युवा अवस्था मे जीवन मे बहुत तेजी से परिवर्तन आते है| | तेजी से बदलती उम्र ,बदलता सामाजिक परिवेश, नये नये फ़ैशन् और इस दौर मे तो एक और नया आयाम जिसे हम सोशल मीडीया कहते है और उसके विभिन्न प्रारूप जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प आदि समेत अनेक डिजिटल संपर्क के बहुत सारे प्रयोजन भी जीवन से जुड गये है| इन सबके चलते युवा मानसिक अवसाद समेत तरह तरह के समाजिक तनावों से भी बहुत रुबरू हो रहा है| इस उम्र में बुद्धि सही या गलत का अंतर भी नहीं कर पाती है| जिसके परिणामस्वरूप युवा पीढ़ी जल्दी ही नशे के तमाम विकल्प जैसे कि शराब् हो या तंबाकु उत्पाद या फ़िर् कोइ ड्रग्स आदि के साथ जीवन जीने लगती है| 

सच है ये समस्या है परन्तु यदि युवा जीवन मे सही मार्गदर्शन मिलना शुरु हो जाये और किशोर अवस्था से युवा होने के बीच युवा जीवन को उनके कैरियर के प्रति सचेत किया जाये और कैसे सही कैरियर बनाया जाता है| ये मार्गदर्शन मिलने लगे तो निश्चित ही एक बड़ा परिवर्तन देखा जा सकता है| भारत में खासकर तम्बाकू उत्पाद बड़ी ही आसानी से किसी को भी उपलब्ध हो जाते है| तमाम क़ानूनी प्रावधान होने के बावजूद भी अक्सर इन कानूनों की धज्जियाँ उड़ते हुए हम रोज अपने जीवन में देखते है| 





तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले उम्र देखे बिना किसी को भी आसानी से ये नुकसानदेह उत्पाद बेच देते है| यहाँ तक कि टीवी या अन्य प्रचार के माध्यम से सरोगेट प्रचार भी भरपूर बड़े बड़े फ़िल्मी सितारे करते पाए जाते है| जिनका अत्यंत प्रतिकूल प्रभाव हम देखते है| आजकल तमाम फिल्मों /सीरियल / औ टी टी प्लेटफार्म पर धूम्रपान का चलन ना केवल आम हो गया है बल्कि उसको बड़े शाही अंदाज में ऐसे प्रस्तुत भी किया जाता है जैसे कि धूम्रपान करते ही आम आदमी कोई महामानव जैसा बन जाता है| ये सब देख कर युवा मन इसके आकर्षण का शिकार हो रहे हैं| भारत में लगभग २६८ मिलियन लोग तम्बाकू का उपभोग करते है जोकि विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है जहाँ की इतनी बड़ी आबादी इसका शिकार है| जिसके फलस्वरूप एक आंकलन के मुताविक भारत में हर वर्ष १३ लाख से ज्यादा लोग सिर्फ तम्बाकू उत्पाद के चलते अपने जीवन को पूरा नहीं जी पाते है|

ये मुद्दा बहुत संवेदनशील है| देश में हज़ारो - लाखों की संख्या में युवा ये खुद अपने परिवार में इस दंश को झेल चुके है या महसूस करते है| अनेक युवा जो इस मुहीम से जुड़े है उनमे से एक प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" 

ऐसा नहीं कि सरकार कोई कदम नहीं ले रही है| सरकारें अपने पूरे प्रयास तो कर रही है लेकिन वो अभी भी उस स्तर पर नहीं आये जोकि युवाओं को तम्बाकू उत्पाद के प्रयोग से बचा सकें| जिसमे सबसे अहम् रोल ना केवल इनकी आसान उपलब्धता का है बल्कि इनके ऊपर काम टैक्स होना भी है| विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी बड़े संस्थाएं भी तम्बाकू उत्पादों पर ७५% तक टैक्स बढ़ाने के लिए लगातार प्रेरित कर रही है| ताकि तम्बाकू उत्पादों को विशेषकर युवाओं से दूर करने में कुछ महत्वपूर्ण पहल की जा सके| 




भारत में भी नाडा इंडिया फाउंडेशन जैसी अनेक सामाजिक संस्थाएं इस दिशा में लोगों को, संगठनों को, सरकार को इस विषय में लगातार जागरूक करने का काम कर रही है| विगत कुछ समय पूर्व पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु जैसे अनेक राज्यों में रहने वाले 500 से ज्यादा युवाओं ने स्वयं पहल करते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी, वित्त मंत्री जी और स्वास्थ्य मंत्री जी को तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने हेतु अपना विनती लिख कर अनुरोध किया है| बेशक एक छोटी पहल है लेकिन निश्चित ही एक प्रभावी और दूसरों को प्रेरणा देने वाली पहल भी है| 

युवाओं को हमको तम्बाकू का नहीं बल्कि उन तमाम अवसरों का दोस्त बनाना है| जो उनके जीवन की तरक़्क़ी का कारक बने| अक्सर देखा जाता है कि अवसर तो अनेक है परन्तु उन तक पहुंचना समस्या के तौर पर देखा जाता है| आज जब समूचा विश्व कोरोना के दंश को झेल रहा है| बेरोजगारी की समस्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है| ऐसे में युवाओं को सम्बल देने की जरुरत है| उनको सही माध्यम और सही लोगों के साथ तालमेल करवाने की जरुरत है ऐसे में स्वरोजगार हो या स्टार्ट अप ये सब युवाओं को ना केवल आकर्षित करते है बल्कि उनको अपने लक्ष्य निर्धारण में भी मदद करते है| युवा पीढ़ी बहुत नाजुक अवस्था है जिसमे बहुत सारे द्वन्द एक साथ चलते है| जिसके चलते ही युवा नशे का शिकार हो जाता है| उसको लगता है कि ये नशा उसकी समस्या को कम करता है लेकिन कब वो लत का शिकार हो जाता है उसको इसकी कोई खबर नहीं होती| जिसके चलते ना केवल व्यक्ति स्वयं को बर्बाद करता है बल्कि परिवार भी बिगड़ते हुए अक्सर देखे जाते है| 



आज जबकि भारत भी कोरोना जैसी अति भयंकर बीमारी का सामना व्यापक रूप से झेल रहा है| ऐसे में तम्बाकू का सेवन कोरोना के प्रकोप को बढ़ाने में संजीवनी का काम करता है| इसलिए आज देश के युवाओं को समझदारी का प्रयोग करते हुए एक जिम्मेदार नागरिक बनना होगा| युवा इसलिए क्यूंकि युवाओं के कन्धों पर देश का भार और प्रभार दोनों हो| जिस हेतु मजबूत और सशक्त युवा देश की सबसे बड़ी जरुरत है| अगर युवा स्वाबलंबी होगा तो निश्चित ही सक्छम भी होगा और सशक्त भी| ऐसे में आज विश्व युवा दिवस के पुण्य अवसर पर ये प्रतिज्ञा हर युवा को लेनी चाहिए कई वो देश के लिए शक्ति बनेगा नाकि बीमारी से ग्रसित भार| और सरकार को भी अपने प्रयासों को खासकर तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढाकर एक दूरगामी पहल भी करनी चाहिए| आखिर ये सवाल देश के युवा जीवन को सशक्त बनाने का है तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स: युवा जीवन सक्छम भी होगा और सशक्त भी |
...प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई 

" तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" 

किसी भी देश की प्रगति मे उस देश के युवाओ का एक अमूल्य योगदान होता है| निश्चित ही युवा आबादी ही देश की असली संपदा है जिसके चलते कोइ भी राष्ट्र ना केवल प्रगति करता है बल्कि उस देश का भविष्य भी मजबूत बना रहता है| जब् युवा सक्छम होता है तो देश भी अपने आप सशक्त होने लगता है| लेकिन वास्तविकता का दूसरा कडवा सच ये भी है कि युवा बहुत आसानी से व्यसनो के जन्जाल मे फ़स् भी जाया करते है| युवा अवस्था मे जीवन मे बहुत तेजी से परिवर्तन आते है| | तेजी से बदलती उम्र ,बदलता सामाजिक परिवेश, नये नये फ़ैशन् और इस दौर मे तो एक और नया आयाम जिसे हम सोशल मीडीया कहते है और उसके विभिन्न प्रारूप जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प आदि समेत अनेक डिजिटल संपर्क के बहुत सारे प्रयोजन भी जीवन से जुड गये है| इन सबके चलते युवा मानसिक अवसाद समेत तरह तरह के समाजिक तनावों से भी बहुत रुबरू हो रहा है| इस उम्र में बुद्धि सही या गलत का अंतर भी नहीं कर पाती है| जिसके परिणामस्वरूप युवा पीढ़ी जल्दी ही नशे के तमाम विकल्प जैसे कि शराब् हो या तंबाकु उत्पाद या फ़िर् कोइ ड्रग्स आदि के साथ जीवन जीने लगती है| 

सच है ये समस्या है परन्तु यदि युवा जीवन मे सही मार्गदर्शन मिलना शुरु हो जाये और किशोर अवस्था से युवा होने के बीच युवा जीवन को उनके कैरियर के प्रति सचेत किया जाये और कैसे सही कैरियर बनाया जाता है| ये मार्गदर्शन मिलने लगे तो निश्चित ही एक बड़ा परिवर्तन देखा जा सकता है| भारत में खासकर तम्बाकू उत्पाद बड़ी ही आसानी से किसी को भी उपलब्ध हो जाते है| तमाम क़ानूनी प्रावधान होने के बावजूद भी अक्सर इन कानूनों की धज्जियाँ उड़ते हुए हम रोज अपने जीवन में देखते है| 





तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले उम्र देखे बिना किसी को भी आसानी से ये नुकसानदेह उत्पाद बेच देते है| यहाँ तक कि टीवी या अन्य प्रचार के माध्यम से सरोगेट प्रचार भी भरपूर बड़े बड़े फ़िल्मी सितारे करते पाए जाते है| जिनका अत्यंत प्रतिकूल प्रभाव हम देखते है| आजकल तमाम फिल्मों /सीरियल / औ टी टी प्लेटफार्म पर धूम्रपान का चलन ना केवल आम हो गया है बल्कि उसको बड़े शाही अंदाज में ऐसे प्रस्तुत भी किया जाता है जैसे कि धूम्रपान करते ही आम आदमी कोई महामानव जैसा बन जाता है| ये सब देख कर युवा मन इसके आकर्षण का शिकार हो रहे हैं| भारत में लगभग २६८ मिलियन लोग तम्बाकू का उपभोग करते है जोकि विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है जहाँ की इतनी बड़ी आबादी इसका शिकार है| जिसके फलस्वरूप एक आंकलन के मुताविक भारत में हर वर्ष १३ लाख से ज्यादा लोग सिर्फ तम्बाकू उत्पाद के चलते अपने जीवन को पूरा नहीं जी पाते है|

ये मुद्दा बहुत संवेदनशील है| देश में हज़ारो - लाखों की संख्या में युवा ये खुद अपने परिवार में इस दंश को झेल चुके है या महसूस करते है| अनेक युवा जो इस मुहीम से जुड़े है उनमे से एक प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" 

ऐसा नहीं कि सरकार कोई कदम नहीं ले रही है| सरकारें अपने पूरे प्रयास तो कर रही है लेकिन वो अभी भी उस स्तर पर नहीं आये जोकि युवाओं को तम्बाकू उत्पाद के प्रयोग से बचा सकें| जिसमे सबसे अहम् रोल ना केवल इनकी आसान उपलब्धता का है बल्कि इनके ऊपर काम टैक्स होना भी है| विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी बड़े संस्थाएं भी तम्बाकू उत्पादों पर ७५% तक टैक्स बढ़ाने के लिए लगातार प्रेरित कर रही है| ताकि तम्बाकू उत्पादों को विशेषकर युवाओं से दूर करने में कुछ महत्वपूर्ण पहल की जा सके| 




भारत में भी नाडा इंडिया फाउंडेशन जैसी अनेक सामाजिक संस्थाएं इस दिशा में लोगों को, संगठनों को, सरकार को इस विषय में लगातार जागरूक करने का काम कर रही है| विगत कुछ समय पूर्व पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु जैसे अनेक राज्यों में रहने वाले 500 से ज्यादा युवाओं ने स्वयं पहल करते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी, वित्त मंत्री जी और स्वास्थ्य मंत्री जी को तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने हेतु अपना विनती लिख कर अनुरोध किया है| बेशक एक छोटी पहल है लेकिन निश्चित ही एक प्रभावी और दूसरों को प्रेरणा देने वाली पहल भी है| 

युवाओं को हमको तम्बाकू का नहीं बल्कि उन तमाम अवसरों का दोस्त बनाना है| जो उनके जीवन की तरक़्क़ी का कारक बने| अक्सर देखा जाता है कि अवसर तो अनेक है परन्तु उन तक पहुंचना समस्या के तौर पर देखा जाता है| आज जब समूचा विश्व कोरोना के दंश को झेल रहा है| बेरोजगारी की समस्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है| ऐसे में युवाओं को सम्बल देने की जरुरत है| उनको सही माध्यम और सही लोगों के साथ तालमेल करवाने की जरुरत है ऐसे में स्वरोजगार हो या स्टार्ट अप ये सब युवाओं को ना केवल आकर्षित करते है बल्कि उनको अपने लक्ष्य निर्धारण में भी मदद करते है| युवा पीढ़ी बहुत नाजुक अवस्था है जिसमे बहुत सारे द्वन्द एक साथ चलते है| जिसके चलते ही युवा नशे का शिकार हो जाता है| उसको लगता है कि ये नशा उसकी समस्या को कम करता है लेकिन कब वो लत का शिकार हो जाता है उसको इसकी कोई खबर नहीं होती| जिसके चलते ना केवल व्यक्ति स्वयं को बर्बाद करता है बल्कि परिवार भी बिगड़ते हुए अक्सर देखे जाते है| 



आज जबकि भारत भी कोरोना जैसी अति भयंकर बीमारी का सामना व्यापक रूप से झेल रहा है| ऐसे में तम्बाकू का सेवन कोरोना के प्रकोप को बढ़ाने में संजीवनी का काम करता है| इसलिए आज देश के युवाओं को समझदारी का प्रयोग करते हुए एक जिम्मेदार नागरिक बनना होगा| युवा इसलिए क्यूंकि युवाओं के कन्धों पर देश का भार और प्रभार दोनों हो| जिस हेतु मजबूत और सशक्त युवा देश की सबसे बड़ी जरुरत है| अगर युवा स्वाबलंबी होगा तो निश्चित ही सक्छम भी होगा और सशक्त भी| ऐसे में आज विश्व युवा दिवस के पुण्य अवसर पर ये प्रतिज्ञा हर युवा को लेनी चाहिए कई वो देश के लिए शक्ति बनेगा नाकि बीमारी से ग्रसित भार| और सरकार को भी अपने प्रयासों को खासकर तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढाकर एक दूरगामी पहल भी करनी चाहिए| आखिर ये सवाल देश के युवा जीवन को सशक्त बनाने का है
    तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स: युवा जीवन सक्छम भी होगा और सशक्त भी | ...प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" किसी भी देश की प्रगति मे उस देश के युवाओ का एक अमूल्य योगदान होता है| निश्चित ही युवा आबादी ही देश की असली संपदा है जिसके चलते कोइ भी राष्ट्र ना केवल प्रगति करता है बल्कि उस देश का भविष्य भी मजबूत बना रहता है| जब् युवा सक्छम होता है तो देश भी अपने आप सशक्त होने लगता है| लेकिन वास्तविकता का दूसरा कडवा सच ये भी है कि युवा बहुत आसानी से व्यसनो के जन्जाल मे फ़स् भी जाया करते है| युवा अवस्था मे जीवन मे बहुत तेजी से परिवर्तन आते है| | तेजी से बदलती उम्र ,बदलता सामाजिक परिवेश, नये नये फ़ैशन् और इस दौर मे तो एक और नया आयाम जिसे हम सोशल मीडीया कहते है और उसके विभिन्न प्रारूप जैसे कि फेसबुक, इंस्टाग्राम, व्हाट्सप्प आदि समेत अनेक डिजिटल संपर्क के बहुत सारे प्रयोजन भी जीवन से जुड गये है| इन सबके चलते युवा मानसिक अवसाद समेत तरह तरह के समाजिक तनावों से भी बहुत रुबरू हो रहा है| इस उम्र में बुद्धि सही या गलत का अंतर भी नहीं कर पाती है| जिसके परिणामस्वरूप युवा पीढ़ी जल्दी ही नशे के तमाम विकल्प जैसे कि शराब् हो या तंबाकु उत्पाद या फ़िर् कोइ ड्रग्स आदि के साथ जीवन जीने लगती है| सच है ये समस्या है परन्तु यदि युवा जीवन मे सही मार्गदर्शन मिलना शुरु हो जाये और किशोर अवस्था से युवा होने के बीच युवा जीवन को उनके कैरियर के प्रति सचेत किया जाये और कैसे सही कैरियर बनाया जाता है| ये मार्गदर्शन मिलने लगे तो निश्चित ही एक बड़ा परिवर्तन देखा जा सकता है| भारत में खासकर तम्बाकू उत्पाद बड़ी ही आसानी से किसी को भी उपलब्ध हो जाते है| तमाम क़ानूनी प्रावधान होने के बावजूद भी अक्सर इन कानूनों की धज्जियाँ उड़ते हुए हम रोज अपने जीवन में देखते है| तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले उम्र देखे बिना किसी को भी आसानी से ये नुकसानदेह उत्पाद बेच देते है| यहाँ तक कि टीवी या अन्य प्रचार के माध्यम से सरोगेट प्रचार भी भरपूर बड़े बड़े फ़िल्मी सितारे करते पाए जाते है| जिनका अत्यंत प्रतिकूल प्रभाव हम देखते है| आजकल तमाम फिल्मों /सीरियल / औ टी टी प्लेटफार्म पर धूम्रपान का चलन ना केवल आम हो गया है बल्कि उसको बड़े शाही अंदाज में ऐसे प्रस्तुत भी किया जाता है जैसे कि धूम्रपान करते ही आम आदमी कोई महामानव जैसा बन जाता है| ये सब देख कर युवा मन इसके आकर्षण का शिकार हो रहे हैं| भारत में लगभग २६८ मिलियन लोग तम्बाकू का उपभोग करते है जोकि विश्व में दूसरा सबसे बड़ा देश है जहाँ की इतनी बड़ी आबादी इसका शिकार है| जिसके फलस्वरूप एक आंकलन के मुताविक भारत में हर वर्ष १३ लाख से ज्यादा लोग सिर्फ तम्बाकू उत्पाद के चलते अपने जीवन को पूरा नहीं जी पाते है| ये मुद्दा बहुत संवेदनशील है| देश में हज़ारो - लाखों की संख्या में युवा ये खुद अपने परिवार में इस दंश को झेल चुके है या महसूस करते है| अनेक युवा जो इस मुहीम से जुड़े है उनमे से एक प्रीत नामक युवा जोकि हरियाणा के स्कूल का छात्र है| अपना दर्द सांझा करते हुए अपनी आपबीती सुनाई " तम्बाकू ने मेरे पिता को तब छीन लिया जब मैं केवल १२ वर्ष का था| मैं तम्बाकू के लिए अपने प्रिय को खोने का दर्द समझता हूँ| तम्बाकू को इतना सस्ता नहीं होना चाहिए ताकि फिर कोई भी अपने प्रियजन को ऐसे ना खोये| इसके लिए तम्बाकू के लिए सरकार को कठोर कदम उठाने चाहिए और ज्यादा से ज्यादा टैक्स इस पर होना चाहिए" ऐसा नहीं कि सरकार कोई कदम नहीं ले रही है| सरकारें अपने पूरे प्रयास तो कर रही है लेकिन वो अभी भी उस स्तर पर नहीं आये जोकि युवाओं को तम्बाकू उत्पाद के प्रयोग से बचा सकें| जिसमे सबसे अहम् रोल ना केवल इनकी आसान उपलब्धता का है बल्कि इनके ऊपर काम टैक्स होना भी है| विश्व स्वास्थ्य संगठन जैसी बड़े संस्थाएं भी तम्बाकू उत्पादों पर ७५% तक टैक्स बढ़ाने के लिए लगातार प्रेरित कर रही है| ताकि तम्बाकू उत्पादों को विशेषकर युवाओं से दूर करने में कुछ महत्वपूर्ण पहल की जा सके| भारत में भी नाडा इंडिया फाउंडेशन जैसी अनेक सामाजिक संस्थाएं इस दिशा में लोगों को, संगठनों को, सरकार को इस विषय में लगातार जागरूक करने का काम कर रही है| विगत कुछ समय पूर्व पंजाब, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, तमिलनाडु जैसे अनेक राज्यों में रहने वाले 500 से ज्यादा युवाओं ने स्वयं पहल करते हुए माननीय प्रधानमंत्री जी, वित्त मंत्री जी और स्वास्थ्य मंत्री जी को तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढ़ाने हेतु अपना विनती लिख कर अनुरोध किया है| बेशक एक छोटी पहल है लेकिन निश्चित ही एक प्रभावी और दूसरों को प्रेरणा देने वाली पहल भी है| युवाओं को हमको तम्बाकू का नहीं बल्कि उन तमाम अवसरों का दोस्त बनाना है| जो उनके जीवन की तरक़्क़ी का कारक बने| अक्सर देखा जाता है कि अवसर तो अनेक है परन्तु उन तक पहुंचना समस्या के तौर पर देखा जाता है| आज जब समूचा विश्व कोरोना के दंश को झेल रहा है| बेरोजगारी की समस्या दिन ब दिन बढ़ती जा रही है| ऐसे में युवाओं को सम्बल देने की जरुरत है| उनको सही माध्यम और सही लोगों के साथ तालमेल करवाने की जरुरत है ऐसे में स्वरोजगार हो या स्टार्ट अप ये सब युवाओं को ना केवल आकर्षित करते है बल्कि उनको अपने लक्ष्य निर्धारण में भी मदद करते है| युवा पीढ़ी बहुत नाजुक अवस्था है जिसमे बहुत सारे द्वन्द एक साथ चलते है| जिसके चलते ही युवा नशे का शिकार हो जाता है| उसको लगता है कि ये नशा उसकी समस्या को कम करता है लेकिन कब वो लत का शिकार हो जाता है उसको इसकी कोई खबर नहीं होती| जिसके चलते ना केवल व्यक्ति स्वयं को बर्बाद करता है बल्कि परिवार भी बिगड़ते हुए अक्सर देखे जाते है| आज जबकि भारत भी कोरोना जैसी अति भयंकर बीमारी का सामना व्यापक रूप से झेल रहा है| ऐसे में तम्बाकू का सेवन कोरोना के प्रकोप को बढ़ाने में संजीवनी का काम करता है| इसलिए आज देश के युवाओं को समझदारी का प्रयोग करते हुए एक जिम्मेदार नागरिक बनना होगा| युवा इसलिए क्यूंकि युवाओं के कन्धों पर देश का भार और प्रभार दोनों हो| जिस हेतु मजबूत और सशक्त युवा देश की सबसे बड़ी जरुरत है| अगर युवा स्वाबलंबी होगा तो निश्चित ही सक्छम भी होगा और सशक्त भी| ऐसे में आज विश्व युवा दिवस के पुण्य अवसर पर ये प्रतिज्ञा हर युवा को लेनी चाहिए कई वो देश के लिए शक्ति बनेगा नाकि बीमारी से ग्रसित भार| और सरकार को भी अपने प्रयासों को खासकर तम्बाकू उत्पादों पर टैक्स बढाकर एक दूरगामी पहल भी करनी चाहिए| आखिर ये सवाल देश के युवा जीवन को सशक्त बनाने का है
  • NO SMOKING DAY, 2022: NEW YOUTH VOICES 10 March 2022|#covid19, COTPA, Haryana, Tobacco, Young India Network Hoteliers stand up with cancer survivors and doctors to support COTPA Amendment Act Youth bodies win Hotel Association support to call for ban on Designated Smoking Areas (DSAs) in Hotels and Restaurants to make India 100 per cent smoke free. Haryana, March 8: On the occasion of No Smoking Day, doctors, youths, cancer victims and Hotel Associations urged the Government of India to remove designated smoking rooms at hotels/restaurants and airports to protect people from second-hand smoke. While appreciating the Government for initiating the process to amend COTPA 2003, they appealed for immediate removal of current provision that permits smoking areas to make India 100 percent smoke free and check the spread of COVID 19 infection in India. "There is growing evidence that smoking is a risk for Covid infection. Smoking worsens lung function and reduces immunity. Smokers who develop Covid infection have more complications and greater risk of fatality. All designated smoking areas in hotels and restaurants and even airports should be abolished to ensure a 100% smoke free environment. Most of these designated smoking areas are rarely compliant as per COTPA requirements and are actually putting our public at great health risk from exposure to secondhand smoke”- said Dr Pankaj Chaturvedi, Head Neck Cancer Surgeon, Tata Memorial Hospital. In India, smoking is banned in all public as per the Cigarettes and Other Tobacco Products (Prohibition of Advertisement and Regulation of Trade and Commerce Production, Supply and Distribution) Act COTPA 2003. Section 4 of this Act prohibits smoking in any place to which the public has access. However, COTPA 2003, presently allows smoking in certain public places like restaurants, hotels, and airports, in designated smoking areas. Suneel Vatsayan, Chairperson of Nada India Foundation at a webinar organised Department of Social Sciences and Public Health Amity University NOIDA All places should be completely smoke free in the best interest of the public health,” said Suneel Vatsayan @Amity University Webinar “Exposure to passive smoking happens in eateries specifically hotels, restaurants, bar & restaurant, pubs and clubs, risking lives of thousands of non-smokers by exposing them to the smoke of cigarettes. As cigarette smoke seeps from smoking areas to common areas, COTPA act needs to be amended, to not permit smoking in any premises. All places should be completely smoke free in the best interest of the public health,” said Suneel Vatsayan, Chairperson of Nada India Foundation at a webinar organised by Amity Institute of Social Sciences and Amity Institute of Public Health) Amity University NOIDA. Second-hand smoking is as harmful as smoking. Exposure to second-hand smoke causes many diseases including, lung cancer and heart disease in adults and the impairment of the lung function and respiratory infections in children. People with compromised respiratory and cardiovascular systems are at higher risk for severe COVID-19 severity and death. Designated smoking areas facilitate the spread of COVID -19 infection as smokers cannot socially distance or wear masks and are trapped in close proximity in a smoke-filled environment. “We are finding that families prefer to eat in restaurants which do not allow smoking. We are happy that the Government is strengthening the COTPA provisions to make hospitality sector completely smoke free. We support the Government in its initiative for safeguarding people’s health,” Kanishk Narang, Tawa Restaurant, (Panchkula) The Government of India has started the COTPA Amendment process and introduced the Cigarettes and Other Tobacco Products (Prohibition of Advertisement and Regulation of Trade and Commerce, Production, Supply and Distribution) (Amendment) Bill, 2020. A recent survey conducted in India revealed that 72% believe second-hand smoke is a serious health hazard and 88% people strongly support strengthening of the current tobacco control law to address this menace. “There is an urgent need to strengthen the provisions for making India 100 percent smoke free and protect millions of Indians from tobacco related diseases and deaths” – Dr. Nikita Gupta, member of Nada Young India Network from Gurgaon said. India has the second largest number of tobacco users (268 million or 28.6% of all adults in India) in the world – of these at least 1.2 million die every year from tobacco related diseases. One million deaths are due to smoking, with over 200,000 due to second-hand smoke exposure, and over 35,000 are due to smokeless tobacco use. Nearly 27% of all cancers in India are due to tobacco usage. The total direct and indirect cost of diseases attributable to tobacco use was a staggering Rupees 182,000 crore which is nearly 1.8% of India’s GDP.
    x
    NO SMOKING DAY, 2022: NEW YOUTH VOICES 10 March 2022|#covid19, COTPA, Haryana, Tobacco, Young India Network Hoteliers stand up with cancer survivors and doctors to support COTPA Amendment Act Youth bodies win Hotel Association support to call for ban on Designated Smoking Areas (DSAs) in Hotels and Restaurants to make India 100 per cent smoke free. Haryana, March 8: On the occasion of No Smoking Day, doctors, youths, cancer victims and Hotel Associations urged the Government of India to remove designated smoking rooms at hotels/restaurants and airports to protect people from second-hand smoke. While appreciating the Government for initiating the process to amend COTPA 2003, they appealed for immediate removal of current provision that permits smoking areas to make India 100 percent smoke free and check the spread of COVID 19 infection in India. "There is growing evidence that smoking is a risk for Covid infection. Smoking worsens lung function and reduces immunity. Smokers who develop Covid infection have more complications and greater risk of fatality. All designated smoking areas in hotels and restaurants and even airports should be abolished to ensure a 100% smoke free environment. Most of these designated smoking areas are rarely compliant as per COTPA requirements and are actually putting our public at great health risk from exposure to secondhand smoke”- said Dr Pankaj Chaturvedi, Head Neck Cancer Surgeon, Tata Memorial Hospital. In India, smoking is banned in all public as per the Cigarettes and Other Tobacco Products (Prohibition of Advertisement and Regulation of Trade and Commerce Production, Supply and Distribution) Act COTPA 2003. Section 4 of this Act prohibits smoking in any place to which the public has access. However, COTPA 2003, presently allows smoking in certain public places like restaurants, hotels, and airports, in designated smoking areas. Suneel Vatsayan, Chairperson of Nada India Foundation at a webinar organised Department of Social Sciences and Public Health Amity University NOIDA All places should be completely smoke free in the best interest of the public health,” said Suneel Vatsayan @Amity University Webinar “Exposure to passive smoking happens in eateries specifically hotels, restaurants, bar & restaurant, pubs and clubs, risking lives of thousands of non-smokers by exposing them to the smoke of cigarettes. As cigarette smoke seeps from smoking areas to common areas, COTPA act needs to be amended, to not permit smoking in any premises. All places should be completely smoke free in the best interest of the public health,” said Suneel Vatsayan, Chairperson of Nada India Foundation at a webinar organised by Amity Institute of Social Sciences and Amity Institute of Public Health) Amity University NOIDA. Second-hand smoking is as harmful as smoking. Exposure to second-hand smoke causes many diseases including, lung cancer and heart disease in adults and the impairment of the lung function and respiratory infections in children. People with compromised respiratory and cardiovascular systems are at higher risk for severe COVID-19 severity and death. Designated smoking areas facilitate the spread of COVID -19 infection as smokers cannot socially distance or wear masks and are trapped in close proximity in a smoke-filled environment. “We are finding that families prefer to eat in restaurants which do not allow smoking. We are happy that the Government is strengthening the COTPA provisions to make hospitality sector completely smoke free. We support the Government in its initiative for safeguarding people’s health,” Kanishk Narang, Tawa Restaurant, (Panchkula) The Government of India has started the COTPA Amendment process and introduced the Cigarettes and Other Tobacco Products (Prohibition of Advertisement and Regulation of Trade and Commerce, Production, Supply and Distribution) (Amendment) Bill, 2020. A recent survey conducted in India revealed that 72% believe second-hand smoke is a serious health hazard and 88% people strongly support strengthening of the current tobacco control law to address this menace. “There is an urgent need to strengthen the provisions for making India 100 percent smoke free and protect millions of Indians from tobacco related diseases and deaths” – Dr. Nikita Gupta, member of Nada Young India Network from Gurgaon said. India has the second largest number of tobacco users (268 million or 28.6% of all adults in India) in the world – of these at least 1.2 million die every year from tobacco related diseases. One million deaths are due to smoking, with over 200,000 due to second-hand smoke exposure, and over 35,000 are due to smokeless tobacco use. Nearly 27% of all cancers in India are due to tobacco usage. The total direct and indirect cost of diseases attributable to tobacco use was a staggering Rupees 182,000 crore which is nearly 1.8% of India’s GDP.
  • Act on Youth Forum - a platform BY, FOR & OF young people
Nada India Foundation hosts an 'Act on Youth Forum' on every Friday's from 5pm-6pm. The forum is formed to discuss some pressing issues that require immediate actions/amendments by the government so as to protect the health and interests of people especially the young. 

Simply register for a date according to your availability and topic of interest and we will share all reading materials that will help you get a back ground of the problem and participate at the forum. This is an opportunity for you to voice your opinion for health rights and better well-being of all in your community and for fellow youth like you. So be sure to make use of this platform and come prepared.

If you wish to raise a topic of your own and discuss it at the forum send a synopsis of the topic to indianyouthfirst@gmail.com and we will be happy to host you at our forum.  
* Required
    Act on Youth Forum - a platform BY, FOR & OF young people Nada India Foundation hosts an 'Act on Youth Forum' on every Friday's from 5pm-6pm. The forum is formed to discuss some pressing issues that require immediate actions/amendments by the government so as to protect the health and interests of people especially the young. Simply register for a date according to your availability and topic of interest and we will share all reading materials that will help you get a back ground of the problem and participate at the forum. This is an opportunity for you to voice your opinion for health rights and better well-being of all in your community and for fellow youth like you. So be sure to make use of this platform and come prepared. If you wish to raise a topic of your own and discuss it at the forum send a synopsis of the topic to [email protected] and we will be happy to host you at our forum. * Required
    x
    Act on Youth Forum - a platform BY, FOR & OF young people
Nada India Foundation hosts an 'Act on Youth Forum' on every Friday's from 5pm-6pm. The forum is formed to discuss some pressing issues that require immediate actions/amendments by the government so as to protect the health and interests of people especially the young. 

Simply register for a date according to your availability and topic of interest and we will share all reading materials that will help you get a back ground of the problem and participate at the forum. This is an opportunity for you to voice your opinion for health rights and better well-being of all in your community and for fellow youth like you. So be sure to make use of this platform and come prepared.

If you wish to raise a topic of your own and discuss it at the forum send a synopsis of the topic to indianyouthfirst@gmail.com and we will be happy to host you at our forum.  
* Required
    Act on Youth Forum - a platform BY, FOR & OF young people Nada India Foundation hosts an 'Act on Youth Forum' on every Friday's from 5pm-6pm. The forum is formed to discuss some pressing issues that require immediate actions/amendments by the government so as to protect the health and interests of people especially the young. Simply register for a date according to your availability and topic of interest and we will share all reading materials that will help you get a back ground of the problem and participate at the forum. This is an opportunity for you to voice your opinion for health rights and better well-being of all in your community and for fellow youth like you. So be sure to make use of this platform and come prepared. If you wish to raise a topic of your own and discuss it at the forum send a synopsis of the topic to [email protected] and we will be happy to host you at our forum. * Required
  • Greetings!
Centre for Social Work, NSS, Panjab University and Nada India Foundation, New Delhi invite you to join the webinar on 'Act on NCDs: Social Workers response to NCDs & Covid-19'.
Date: 21dec (Monday) Time: 9.15am
Certificate of participation will be provided
Register here: https://forms.gle/unTkYySdX7JY7pz89
    Greetings! Centre for Social Work, NSS, Panjab University and Nada India Foundation, New Delhi invite you to join the webinar on 'Act on NCDs: Social Workers response to NCDs & Covid-19'. Date: 21dec (Monday) Time: 9.15am Certificate of participation will be provided Register here: https://forms.gle/unTkYySdX7JY7pz89
    x
    Greetings!
Centre for Social Work, NSS, Panjab University and Nada India Foundation, New Delhi invite you to join the webinar on 'Act on NCDs: Social Workers response to NCDs & Covid-19'.
Date: 21dec (Monday) Time: 9.15am
Certificate of participation will be provided
Register here: https://forms.gle/unTkYySdX7JY7pz89
    Greetings! Centre for Social Work, NSS, Panjab University and Nada India Foundation, New Delhi invite you to join the webinar on 'Act on NCDs: Social Workers response to NCDs & Covid-19'. Date: 21dec (Monday) Time: 9.15am Certificate of participation will be provided Register here: https://forms.gle/unTkYySdX7JY7pz89